Latest stories

  • in

    Cigrate !

    Haan , ME wahi hu… jisne Ek Cigrate kahreedi thi .. firr usko jalaya tha ,, dil ko apne samjhya tha chaar bade bade kash bhare the ,, firr sanso k beech me usi cigrate ko uatara tha pahli baar ye ehsaas hua tha , ki .. me hi hu jo pita hai ,, jeeta […] More

  • Dream Incomplete
    in

    Dream Incomplete !

    Poetry by RJ Sanju Title: Dream Incomplete Language: Hindi “सपना” ये कोई गली में चलने वाली भोली सी लड़की का नाम नहीं है,, ना ही किताबों में साहित्यकारों की लेखनी से कागजों पर गुदने वाली नायिका बल्कि ये मेरा अपना सपना है , वो सपना जिसका मुझे ना जाने कब से इंतज़ार था ,, ना […] More